Mahatma Gandhi Essay in Hindi




महात्मा गांधी का जीवन (Mahatma Gandhi Essay in Hindi)

महात्मा गांधी यानि मोहनदास करमचंद गांधी का जन्म 2 अक्टूबर 1869 को गुजरात के पोरबंदर नामक गाव में हुआ था | उनके पिता करमचंद गांधी महान और धर्मनिष्ठ मनुष्य थे | उनकी माता एक साधारण और धार्मिक महिला थी | गांधीजी उनकी माता से बहुत प्रभावित थे | वे एक महान राजनीतिक नेता थे | उन्हें कई लोग बापू कहते है तथा कई उन्हें राष्ट्रपिता के रूप में भी जानते है |
13 साल की उम्र में उनका विवाह कस्तूरबा से हुआ | जब वे 18 साल के हुए तब उन्होंने अपनी मैट्रिक की परीक्षा पूरी की और वह उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए लंदन चले गए जहां उन्होने कानून में स्नातक प्राप्त की  |
गांधीजी ने हमेशा सत्य, अहिंसा, शांति, शाकाहार, आस्था, सादगी  का मार्ग अपनाया | उन्होंने यह साबित किया कि अहिंसा सबसे शक्तिशाली तलवार है |

24 साल की उम्र में वे ब्रिटिश उपनिवेश दक्षिण अफ्रीका वकालत का अभ्यास करने चले गए  | उन्होंने 1893-1914 तक 21 साल वहां बिताए  | एक वकील के तौर पर वह मुख्य रूप से भारतीयो द्वारा नियोजित किए जाते थे  | जब वह वकालत का अभ्यास कर रहे थे तब उन्होंने देखा कि भारतीयो का उनके रंग के वजह से भेदभाव किया जाता था  | कई बार अपमानित होने के बावजूद उन्होंने स्वतंत्रता संघर्ष जारी रखा |

Also read  List of Top Best 50 Core Mechanical Engineering Companies in INDIA

1893 में महात्मा गांधी को साउथ अफ्रीका के पीटरमेरिट्जबर्ग स्टेशन पर ट्रेन से फेंक दिया गया था उस वक्त उन्होंने पहली बार वहां जातिवाद का सामना किया था। इस अपमान से लड़ने के लिए उन्होंने जो आंदोलन खड़ा किया, वो इतिहास बन गया | उन्होंने भारतीयों के विशेषाधिकारो और नागरिक अधिकारो के लिए संघर्ष किया | उन्होंने लोगों को अपने अधिकारो के लिए अहिंसक रूप से लड़ना सिखाया |

1915 में एक भारतीय बैरिस्टर ने दक्षिण अफ्रीका के अपने करियर को त्याग अपने देश वापस आने का फैसला किया। जनवरी 9,1915 को वे भारत लौटे  | 1915 की किंग की जन्मदिन सम्मान सूची में उन्हें “कैसर-आई-हिंद” स्वर्ण पदक मिला  | भारत लौटने पर उन्होंने लोगों की समस्याओ से लड़ने में मदद की और अंग्रेजों  के कुशासन के खिलाफ एक शक्तिशाली अहिंसक आंदोलन शुरु किया | बाद में, वह एक सदस्य के रूप में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल हो गए और जल्द ही राष्ट्रपति बने। उनकी चालों ने भारतीय राजनीति में आध्यात्मिकता को लाया।
उन्होंने अस्पृश्यता, पिछड़े समाज के उत्थान जैसे सामाजिक समस्याओं को दूर करने और गांवों के विकास के लिए आवाज उठाई। गांधी जी ने लोगों को स्वदेशी माल का इस्तेमाल करने के लिए प्रेरित किया | वह शारीरिक श्रम पर जोर देते थे और अपने लोगों को कपास और संबंधित वस्तुओं के लिए आत्मनिर्भर होने के लिए प्रेरित करते थे | उन्होंने चरखा का उपयोग कर सूती कपड़े बुनना शुरू कर दिया | उन्हें स्वतंत्रता आंदोलनो में महिलाओं का भारी समर्थन मिला |
भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में गांधीजी की भूमिका:
• असहयोग आंदोलन(Non-Cooperation Movement) 1942:

असहयोग आन्दोलन को संपूर्ण देश में सफलता प्राप्त हुई तथा अधिकतम लोगों ने स्वदेशी नीति का अनुसरण किया |

Also read  BA 1st year Result - Annual Exam Result 2018, Check University Wise BA Part 1
• भारत छोड़ो आंदोलन (Quit India Movement) 1942:

इस आंदोलन के तहत भारत छोड़ने के लिए अंग्रेजों को मजबूर करने के लिए भारत छोड़ो नारे लगाए गए यह महात्मा गांधी द्वारा सबसे शक्तिशाली आंदोलन के रूप में माना जाता है |

• नमक सत्याग्रह – दांडी यात्रा (Salt Satyagraha -Dandi March) 1930:

सत्याग्रह या नमक सत्याग्रह अंग्रेजों द्वारा कर शासन के खिलाफ एक विरोध था। गांधी ने किसी भी कर के बिना दांडी पर नमक का उत्पादन किया। उनके सविनय अवज्ञा आंदोलन का भी लाखों लोगों ने समर्थन किया.

• चंपारण:

बिहार में चंपारण आंदोलन गांधी की पहली भारतीय स्वतंत्रता राजनीति में सक्रिय भागीदारी थी।

• खेड़ा:

जब खेड़ा, गुजरात में एक गांव बुरी तरह बाढ़ से प्रभावित हुआ, तो स्थानीय किसानों ने करों से छूट देने के लिए शासकों से अपील की। यहां, गांधी ने हस्ताक्षर अभियान शुरू किया जहां किसानों ने करों का भुगतान न करने का वचन दिया।

Also read  REET Level 2 Cut Off Marks 2018 | Rajasthan रीट Level 2 परीक्षा Download REET Cut Off and Merit List
• खिलाफत आंदोलन :

गांधी अखिल भारतीय मुस्लिम सम्मेलन के एक प्रमुख प्रवक्ता बने और दक्षिण अफ़्रीका में अपने भारतीय एम्बुलेंस कोर के दिनों के दौरान उन्होंने साम्राज्य से प्राप्त पदों को वापस लौटाया खिलाफत में उनकी भूमिका ने उन्हें राष्ट्रीय नेता बना दिया।

गांधी द्वारा किए गए इन सभी आंदोलनों ने ब्रिटिश शासन को इतनी बुरी तरह से प्रभावित किया और प्रेरित नागरिकों को आगे आने दिया और उन्हें प्रोत्साहित किया कि वे अपने अधिकारों के लिए लड़ें।

30 जनवरी 1948 को हिंदू कार्यकर्ता नथुराम गोडसे  ने महात्मा गांधी की हत्या कर दी थी, और 1948 से इस दिन को रवींद्रनाथ टैगोर द्वारा “राष्ट्र का शहीद” नाम दिया गया है। वे इतने सारे भारतीयों की प्रेरणा हैं । उन्होंने ब्रिटिश शासन के खिलाफ अनेक आंदोलनों का शुभारंभ किया। गांधीजी मर चुके हैं लेकिन वह अमर बन गए हैं। उनका स्थान भारतीय इतिहास में सबसे महान लोगों के बीच सुरक्षित है। वे एक सच्चे महात्मा थे।

यदि आपको यह लेख पसंद आया हो तो कृपिया Today’s Era से जुड़े रहिये धन्यवाद!

मत्वपूर्ण लेख: http://www.deepawali.co.in/mahatma-gandhi-biography-hindi-महात्मा-गाँधी.html